Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

2443.पूर्णिका

2443.पूर्णिका
🌷सच कहता हूँ जब तुम मेरे हो जाओगे🌷
22 22 22 22 22 22
सच कहता हूँ जब तुम मेरे हो जाओगे।
प्यारे प्यारे सपनों में यूं खो जाओगे ।।
काँटे भी फूल बनेंगे अपनी बगियां में ।
जब बीज जहाँ मुहब्बत के तुम बो जाओगे ।।
हालातों से हमने सीखा जीना मरना।
आएगी तुमको नींद यहाँ सो जाओगे ।।
भूख नहीं लगती फिर भी खा लेते सब कुछ ।
धोते बहती गंगा में मन धो जाओगे ।।
रोज तमाशा करते खेदू दुनिया वाले ।
हर बोझ यहाँ अपने सर तुम ढ़ो जाओगे ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
21-8-2023सोमवार

193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अजीब करामात है
अजीब करामात है
शेखर सिंह
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
■ गीत / पधारो मातारानी
■ गीत / पधारो मातारानी
*Author प्रणय प्रभात*
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
कबीर ज्ञान सार
कबीर ज्ञान सार
भूरचन्द जयपाल
Ram
Ram
Sanjay ' शून्य'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
चमन
चमन
Bodhisatva kastooriya
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
Loading...