Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

2432.पूर्णिका

2432.पूर्णिका
🌷जो सोचा वो पाया हमने🌷
22 22 22 22
जो सोचा वो पाया हमने ।
सबका मान बढ़ाया हमने ।।
नफरत की ये दीवार मिटे।
जब भी हाथ बढ़ाया हमने ।।
सपनें देखें झूमे नाचे ।
मिलके सजन बढ़ाया हमने ।।
दुनिया की अजब कहानी है ।
अपना काम बढ़ाया हमने।।
जीवन महके हरदम खेदू ।
ऐसा कदम बढ़ाया हमने।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
13-8-2023रविवार

431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरा विषय साहित्य नहीं है
मेरा विषय साहित्य नहीं है
Ankita Patel
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
NUMB
NUMB
Vedha Singh
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Ravi Prakash
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"मैं सब कुछ सुनकर मैं चुपचाप लौट आता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
शायद ...
शायद ...
हिमांशु Kulshrestha
"मधुर स्मृतियों में"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बिटिया  घर  की  ससुराल  चली, मन  में सब संशय पाल रहे।
बिटिया घर की ससुराल चली, मन में सब संशय पाल रहे।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कवि दीपक बवेजा
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं और मेरा यार
मैं और मेरा यार
Radha jha
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
■ आप आए, बहार आई ■
■ आप आए, बहार आई ■
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...