Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

2367.पूर्णिका

2367.पूर्णिका
🌹रंगों का क्या बदल जाते हैं 🌹
22 22 212 22
रंगों का क्या बदल जाते हैं ।
अपना पासा बदल जाते हैं ।।
भूख मिटे हम मेहनत करते ।
किरदार जहाँ बदल जाते हैं ।।
दुनिया सुंदर देख तरक्की भी ।
यूं लोग यहाँ बदल जाते हैं ।।
ना आपस में बैर रखना तुम ।
नेकी सब कुछ बदल जाते हैं ।।
दामन अपना थाम ले खेदू ।
बदले जीवन बदल जाते हैं ।।
………….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
1-7-2023शनिवार

344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
विकास
विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंदर से टूट कर भी
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
Sannato me shor bhar de
Sannato me shor bhar de
Sakshi Tripathi
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
बिना अश्क रोने की होती नहीं खबर
sushil sarna
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सिर्फ औरतों के लिए
सिर्फ औरतों के लिए
Dr. Kishan tandon kranti
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ Rãthí
■ गीत / पधारो मातारानी
■ गीत / पधारो मातारानी
*Author प्रणय प्रभात*
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
Shashi kala vyas
2
2
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
शेखर सिंह
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
TARAN VERMA
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...