Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

2346.पूर्णिका

2346.पूर्णिका
🌷हर चीज का ख्याल रखता है 🌷
2212 212 22
यूं हाथ में ढ़ाल रखता है ।
हर चीज का ख्याल रखता है ।।
हरदम बदल जिंदगी जाती ।
सपनें यहाँ पाल रखता है ।।
अहसास हो या न हो हमको।
भगवान खुशहाल रखता है ।।
देते खुशी गम मिटा कर सब ।
बस प्यार का डाल रखता है ।।
दुनिया नयी तू बना खेदू।
इंसां जहाँ भाल रखता है ।।
………✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश ”
16-6-2023शुक्रवार

414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
मुक्तक – रिश्ते नाते
मुक्तक – रिश्ते नाते
Sonam Puneet Dubey
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
gurudeenverma198
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
Dushyant Kumar
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
Paras Nath Jha
मूरत
मूरत
कविता झा ‘गीत’
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
■ ग़ज़ल (वीक एंड स्पेशल) -
■ ग़ज़ल (वीक एंड स्पेशल) -
*प्रणय प्रभात*
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
Shweta Soni
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...