Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

2321.पूर्णिका

2321.पूर्णिका
🌹ना काम कोई मुश्किल होते हैं 🌹
2212 2212 22
ना काम कोई मुश्किल होते हैं ।
तूफान देख बुझदिल रोते हैं ।।
ये जिंदगी तो महकती हरदम ।
हसरत यहाँ बमंजिल होते हैं ।।
बस प्यार जीने का सहारा है ।
इंसान फिर भी जलिल होते हैं ।।
बाजी जहाँ पर जीत की होती।
सच नेक सोच दलील होते हैं ।।
तकदीर हम तो बदलते खेदू ।
अपनी जज़्बातें सलिल होते हैं ।।
…………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
2-8-2023बुधवार

168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बहुत
बहुत
sushil sarna
*मुबारक हो मुबारक हो मुबारक हो(हिंदी गजल/ गीतिका)*
*मुबारक हो मुबारक हो मुबारक हो(हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
नरभक्षी_गिद्ध
नरभक्षी_गिद्ध
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
"अमीर खुसरो"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
हवाएं रुख में आ जाएं टीलो को गुमशुदा कर देती हैं
कवि दीपक बवेजा
मैं और मेरा यार
मैं और मेरा यार
Radha jha
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
*Author प्रणय प्रभात*
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी गिरने नहीं देती
कभी गिरने नहीं देती
shabina. Naaz
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
वैर भाव  नहीं  रखिये कभी
वैर भाव नहीं रखिये कभी
Paras Nath Jha
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
"दीप जले"
Shashi kala vyas
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
व्याकुल तू प्रिये
व्याकुल तू प्रिये
Dr.Pratibha Prakash
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...