Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

2310.पूर्णिका

2310.पूर्णिका
🌹नाराज है कोई मुझसे 🌹
2212 22 22
नाराज है कोई मुझसे ।
बेताज है कोई मुझसे ।।
यूं जिंदगी भर ना रुठे ।
बस नाज है कोई मुझसे।।
सब बोलती है बंद यहाँ ।
आवाज है कोई मुझसे।।
अरमान भी रखते जिंदा ।
सच आज है कोई मुझसे।।
वादा नहीं करते खेदू।
सरताज है कोई मुझसे ।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
16-5-2023मंगलवार

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कट्टर ईमानदार हूं
कट्टर ईमानदार हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
नया साल
नया साल
Arvina
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
मित्रता का मोल
मित्रता का मोल
DrLakshman Jha Parimal
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
"बुद्धिमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...