Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷पइसा के बुखार होथे🌷
22 212 122
पइसा के बुखार होथे।
जिनगी के सुधार होथे।।
सबला बस मिले खुसी हा।
दुनिया के गुहार होथे।।
पीरित के बंधना जइसने।
देखव लव कुमार होथे।।
सुरता के बिछाय कथरी ।
हिरदे के पुकार होथे ।।
बनथे सुघ्घर मन खेदू ।।
समझे के बिचार होथे ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
29-10-2023रविवार

115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"लबालब समन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जुनून
जुनून
अखिलेश 'अखिल'
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
VINOD CHAUHAN
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
2366.पूर्णिका
2366.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
चलो मान लिया तुम साथ इमरोज़ सा निभाओगे;
चलो मान लिया तुम साथ इमरोज़ सा निभाओगे;
ओसमणी साहू 'ओश'
*अविश्वसनीय*
*अविश्वसनीय*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...