Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2023 · 1 min read

23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷मोर मया ला नई जानय 🌷
22 22 1222
मोर मया ला नई जानय।
बात सुघ्घर तै नई जानय।।
महकत रहिथे इहां बगियां।
अंतस मा का नई जानय।।
दुख अउ पीरा रथे सबला।
सिसकत हिरदे नई जानय।।
चमके चंदा सुरुज इहां ।
रतिहा करियर नई जानय।।
टूटय खेदू भरोसा झन ।
दुनिया येला नई जानय।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
25-10-2023बुधवार

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
झरना का संघर्ष
झरना का संघर्ष
Buddha Prakash
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
2371.पूर्णिका
2371.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"राहे-मुहब्बत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
संसद बनी पागलखाना
संसद बनी पागलखाना
Shekhar Chandra Mitra
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
लाख कोशिश की थी अपने
लाख कोशिश की थी अपने
'अशांत' शेखर
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
Loading...