Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 1 min read

23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 जिनगी मा बिहान कब होही 🌷
22 212 1222
जिनगी मा बिहान कब होही ।
समस्या के निदान कब होही ।।
जीयत हन इहां मरत कइसे।
जिनगी के उत्थान कब होही ।।
तरक्की आज मेहनत होथे ।
हमरे खुद के मकान कब होही ।।
सपना देखत उमर पहागे।
मनखे के सम्मान कब होही ।।
धर के रेंगथे रस्ता खेदू।
बस सुघ्घर पहिचान कब होही ।।
…………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
18-10-2023बुधवार

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
जस का तस / (नवगीत)
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Sahityapedia
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
स्वाभिमान से इज़हार
स्वाभिमान से इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐एय मेरी ज़ाने ग़ज़ल💐
💐एय मेरी ज़ाने ग़ज़ल💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
■ एक और शेर...
■ एक और शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
सत्य कुमार प्रेमी
" लज्जित आंखें "
Dr Meenu Poonia
पिनाक धनु को तोड़ कर,
पिनाक धनु को तोड़ कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐अज्ञात के प्रति-71💐
💐अज्ञात के प्रति-71💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
खेल,
खेल,
Buddha Prakash
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
कर्तव्यपथ
कर्तव्यपथ
जगदीश शर्मा सहज
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
VEDANTA PATEL
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
नाराज नहीं हूँ मैं   बेसाज नहीं हूँ मैं
नाराज नहीं हूँ मैं बेसाज नहीं हूँ मैं
Priya princess panwar
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...