Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 1 min read

23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷बार दीया अंजोर बगरही 🌷
2122 22 22 2
बार दीया अंजोर बगरही।
अपन दुनिया संगी संवरही ।।
फूल फूले बगियां बगियां मा।
सुघ्घर जिनगी बिकट महकही ।।
रोज कहनी अपनेच कथे सब ।
चिरइया देख फुदकत चहकही ।।
मस्त पुरवईया मन ला मोहे।
ये मया ले सच किस्मत चमकही।।
कोन गाथे गीत इहां खेदू।
जान के मनमंजूर बहकही ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
18-10-2023बुधवार

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में सुख-चैन के,
जीवन में सुख-चैन के,
sushil sarna
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
सहारा
सहारा
Neeraj Agarwal
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
Shashi kala vyas
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
हैप्पी होली
हैप्पी होली
Satish Srijan
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"असफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
2778. *पूर्णिका*
2778. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
*Author प्रणय प्रभात*
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
गीत
गीत
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...