Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2023 · 1 min read

23/216. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/216. छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
🌷 झन काटव जंगल झाड़ी ला🌷
22 22 22 22
झन काटव जंगल झाड़ी ला।
साफ करव कचरा काड़ी ला।।
दुनिया महकाथे सुघ्घर इहां।
खीचत जिनगी के गाड़ी ला।।
कोन अपन कोन पराय हवे।
टमरत जान जथे नाड़ी ला।।
खेती अपने सेती संगी।
रख जतन बियारा भाड़ी ला।।
मन के पीरा जानय खेदू।
पीके देख इहां ताड़ी ला।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
29-12-2023शुक्रवार

122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2709.*पूर्णिका*
2709.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो भी मिलता है दिलजार करता है
जो भी मिलता है दिलजार करता है
कवि दीपक बवेजा
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
चित्र और चरित्र
चित्र और चरित्र
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
अड़बड़ मिठाथे
अड़बड़ मिठाथे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
देवराज यादव
"BETTER COMPANY"
DrLakshman Jha Parimal
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
दो अपरिचित आत्माओं का मिलन
दो अपरिचित आत्माओं का मिलन
Shweta Soni
Janab hm log middle class log hai,
Janab hm log middle class log hai,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
The_dk_poetry
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
"हस्ताक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
मोदी क्या कर लेगा
मोदी क्या कर लेगा
Satish Srijan
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
*सुकृति (बाल कविता)*
*सुकृति (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
इश्क़
इश्क़
हिमांशु Kulshrestha
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
Loading...