Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-24💐

24-
उत्साही को तारीफ़ का वमन कर देना चाहिए और तानों का मुकुट धारण करना चाहिए।

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"Strength is not only measured by the weight you can lift, b
Manisha Manjari
आख़िरी सफऱ
आख़िरी सफऱ
Dr. Rajiv
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Manu Vashistha
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
बसहा चलल आब संसद भवन
बसहा चलल आब संसद भवन
मनोज कर्ण
मां
मां
Ankita Patel
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-379💐
💐प्रेम कौतुक-379💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
"सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
साहस
साहस
श्री रमण 'श्रीपद्'
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
हुनर
हुनर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
बुक समीक्षा
बुक समीक्षा
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बड़े नखरों से आना, शीघ्रता रहती है जाने की (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*बड़े नखरों से आना, शीघ्रता रहती है जाने की (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
"लोकतंत्र के मंदिर" में
*Author प्रणय प्रभात*
संत कबीरदास
संत कबीरदास
Pravesh Shinde
नाशुक्रा
नाशुक्रा
Satish Srijan
हमारे दरमियान कुछ फासला है।
हमारे दरमियान कुछ फासला है।
Surinder blackpen
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
Anand Kumar
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
Loading...