Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-24💐

24-
उत्साही को तारीफ़ का वमन कर देना चाहिए और तानों का मुकुट धारण करना चाहिए।

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
*चलती रहती ट्रेन है, चढ़ते रहते लोग (कुंडलिया)*
*चलती रहती ट्रेन है, चढ़ते रहते लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
Bidyadhar Mantry
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
अनुगामी
अनुगामी
Davina Amar Thakral
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
क्या मुझसे दोस्ती करोगे?
Naushaba Suriya
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
मे तुम्हे इज्जत,मान सम्मान,प्यार दे सकता हु
मे तुम्हे इज्जत,मान सम्मान,प्यार दे सकता हु
Ranjeet kumar patre
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
हृदय वीणा हो गया।
हृदय वीणा हो गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Success Story -3
Success Story -3
Piyush Goel
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
Sanjay ' शून्य'
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
शिव प्रताप लोधी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
ऋतु बसंत
ऋतु बसंत
Karuna Goswami
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
Loading...