Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 सब सुवारथ के साथी हवे🌷
212 22 2212
सब सुवारथ के साथी हवे।
बस पहार इहां घाटी हवे।।
आज ये जिनगी नाचा गम्मत।
मसखरा टूरा नाती हवे।।
जानबे जेला अपनेच हे ।
अपन बर सोना माटी हवे।।
खेलबे काला जुग बदलगे।
अब कहाँ भौरा बांटी हवे।।
ले मया मिलथे खेदू जिहां ।
बार ले दीया बाती हवे।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-11-2023बुधवार

141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक और इंकलाब
एक और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
जिक्र क्या जुबा पर नाम नही
पूर्वार्थ
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
shabina. Naaz
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देवतुल्य है भाई मेरा
देवतुल्य है भाई मेरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
नारी-शक्ति के प्रतीक हैं दुर्गा के नौ रूप
कवि रमेशराज
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
होली
होली
Kanchan Khanna
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...