Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 बेरा हर ढ़र जाही🌷
22 22 22
बेरा हर ढ़र जाही ।
जीयइया मर जाही ।।
जिनगी के संग इहां ।
सब रंग बिखर जाही ।।
कांटा खूंटी चातर ।
अंजोर बगर जाही ।।
लाहो झन लेबे तै ।
मन सुघ्घर निखर जाही ।।
काम बुता कर खेदू ।
दुनिया संवर जाही ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
22-11-2023बुधवार

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
दीमक जैसे खा रही,
दीमक जैसे खा रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
3210.*पूर्णिका*
3210.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
बन्दिगी
बन्दिगी
Monika Verma
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ...*
*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ...*
Dr Manju Saini
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
Bhupendra Rawat
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
■ चुनावी साल के चतुर चुरकुट।।
*Author प्रणय प्रभात*
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
गुमनाम शायरी
गुमनाम शायरी
Shekhar Chandra Mitra
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
Sukoon
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
गणतंत्र दिवस की बधाई।।
Rajni kapoor
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...