Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 *मोला तोर से मया होगे *🌷
22 212 1222
मोला तोर से मया होगे।
तोला मोर से मया होगे।।
जिनगी सुघ्घर ये रही महकत ।
नव अंजोर ले मया होगे।।
संगी मस्त मजा उड़ाबो ना ।
हमला भोर मा मया होगे।।
सपना हे इहां बने दुनिया।
पारा खोर ले मया होगे।।
गावत ददरिया जिहां खेदू ।
दांत निपोर झन मया होगे।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
20,-11-2023सोमवार

128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
कारगिल दिवस पर
कारगिल दिवस पर
Harminder Kaur
हम चाहते हैं
हम चाहते हैं
Basant Bhagawan Roy
कहे तो क्या कहे कबीर
कहे तो क्या कहे कबीर
Shekhar Chandra Mitra
चली ये कैसी हवाएं...?
चली ये कैसी हवाएं...?
Priya princess panwar
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
Ravi Prakash
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
कभी वो कसम दिला कर खिलाया करती हैं
Jitendra Chhonkar
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
💐प्रेम कौतुक-510💐
💐प्रेम कौतुक-510💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
Ranjeet kumar patre
असंवेदनशीलता
असंवेदनशीलता
Shyam Sundar Subramanian
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
#पितृदोष_मुक्ति_योजना😊😊
#पितृदोष_मुक्ति_योजना😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
“निर्जीव हम बनल छी”
“निर्जीव हम बनल छी”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...