Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2023 · 1 min read

23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 दुनिया हमर बन जाही🌷 2212 22 2
दुनिया हमर बन जाही।
जिनगी अमर बन जाही ।।
सुघ्घर दिन बादर देखव।
गुजर बसर बन जाही ।।
हारय नई जीत जिहां ।
मन जी मत्तर बन जाही ।।
हिरदे मया मा भर ले।
अपन चरित्तर बन जाही ।।
महकत रही जग खेदू ।
मनखे शजर बन जाही ।।
………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
07-11-2023सोमवार

1 Like · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#अभी_अभी
#अभी_अभी
*Author प्रणय प्रभात*
पत्नी-स्तुति
पत्नी-स्तुति
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
"ओखली"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
*चंदा (बाल कविता)*
*चंदा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
बाकी सब कुछ चंगा बा
बाकी सब कुछ चंगा बा
Shekhar Chandra Mitra
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
हाथ कंगन को आरसी क्या
हाथ कंगन को आरसी क्या
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
Ravi Betulwala
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
Vivek Ahuja
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
Loading...