Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*

23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
🌷 जीयत मरत रथे🌷
22 22 2
जीयत मरत रथे ।
घुरवा सरत रथे ।।
दुनिया मा रंगे।
जिनगी घुरत रथे ।।
हाँसत गोठ सुघ्घर।
सुरता करत रथे ।।
किरिया खावत सब ।
मन हा जरत रथे ।।
कइसे का खेदू।
दीया बरत रथे ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
02-11-2023गुरुवार

86 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
मेरा दामन भी तार-तार रहा
मेरा दामन भी तार-तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
हमको
हमको
Divya Mishra
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
यादें
यादें
Versha Varshney
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
*पास में अगर न पैसा 【कुंडलिया】*
*पास में अगर न पैसा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-297💐
💐प्रेम कौतुक-297💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
अय मुसाफिर
अय मुसाफिर
Satish Srijan
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
Loading...