Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह

अपनी ग़रज़ पे लोग मिले यार की तरह
निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह

दाने की जुस्तुजू में परिंदे चले गए
तन्हा शजर खड़ा रहा लाचार की तरह

जीने का शौक़ है मुझे अपने उसूल पर
जीता हूँ ज़ीस्त रोज़ मैं त्योहार की तरह

चाहा जिन्हें था मैंने दिल-ओ-जान से अधिक
वो सामने से गुज़रे हैं अग़्यार की तरह

मुस्कान आपकी ये क़यामत से कम नहीं
इससे करो न वार सितम-गार की तरह

बाज़ार-ए-आरज़ू में गुज़रती रही ये उम्र
मुझको मिला न कोई ख़रीदार की तरह

आशिक़ हूँ आपका कोई लोफ़र नहीं सनम
मुझको सज़ा न दीजै ख़तावार की तरह

तुम दूर जब से हो गए रौनक चली गई
कहते हैं लोग लगते हो बीमार की तरह

~अजय कुमार ‘विमल’

Language: Hindi
283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ऐसे जीना जिंदगी,
ऐसे जीना जिंदगी,
sushil sarna
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
Sandeep Mishra
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
तेरी नियत में
तेरी नियत में
Dr fauzia Naseem shad
उदासियाँ  भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
उदासियाँ भरे स्याह, साये से घिर रही हूँ मैं
_सुलेखा.
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नहीं, बिल्कुल नहीं
नहीं, बिल्कुल नहीं
gurudeenverma198
10 Habits of Mentally Strong People
10 Habits of Mentally Strong People
पूर्वार्थ
.
.
Ragini Kumari
कविता - नदी का वजूद
कविता - नदी का वजूद
Akib Javed
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
*अध्याय 6*
*अध्याय 6*
Ravi Prakash
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...