Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

2282.पूर्णिका

2282.पूर्णिका
🌹हम फटी चादर ओढ़ लेते हैं 🌹

हम फटी चादर ओढ़ लेते हैं ।
जिंदगी अपनी मोड़ लेते हैं ।।
देखने में यूं ख्वाब भी सुंदर।
प्यार से नाता जोड़ लेते हैं ।।
नेकियों का फल देखिए मीठे ।
मन लगे जब तब तोड़ लेते हैं ।।
ये हवा चलती साथ साथ यहाँ ।
चाह कर सर भी फोड़ लेते हैं ।।
बदल के दुनिया अब चले खेदू।
जान बुझ हाथ मरोड़ लेते हैं ।।
……….✍डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
30-4-2023रविवार

1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
Sukoon
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माईया दौड़ी आए
माईया दौड़ी आए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
Sunil Suman
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सुख - एक अहसास ....
सुख - एक अहसास ....
sushil sarna
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
कभी किसी की मदद कर के देखना
कभी किसी की मदद कर के देखना
shabina. Naaz
पथ पर आगे
पथ पर आगे
surenderpal vaidya
कविता
कविता
Shiva Awasthi
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
परिंदे अपने बच्चों को, मगर उड़ना सिखाते हैं( हिंदी गजल)
परिंदे अपने बच्चों को, मगर उड़ना सिखाते हैं( हिंदी गजल)
Ravi Prakash
वर्षा का भेदभाव
वर्षा का भेदभाव
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
2839.*पूर्णिका*
2839.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...