Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

2232.

2232.
💥प्यार का रंग लगाएंगे💥
2122 22 22
यूं तुझे अपन बनाएंगे।
प्यार का रंग लगाएंगे।।
देखने वाले देखें सब ।
आज वो रंग लगाएंगे ।।
खूबसूरत दुनिया अपनी।
ढंग से रंग लगाएंगे ।।
बस यहाँ हो दिल खुश सबका।
हम वही रंग लगाएंगे ।।
जिंदगी भी महके खेदू ।
मीत का रंग लगाएंगे ।।
…………✍प्रो .खेदू भारती “सत्येश ”
7-3-2023मंगलवार

92 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
दूसरे दर्जे का आदमी
दूसरे दर्जे का आदमी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
फहराये तिरंगा ।
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kamal Deependra Singh
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कनि हँसियाै ने सजनी kani hasiyo ne sajni lyrics
कनि हँसियाै ने सजनी kani hasiyo ne sajni lyrics
Music Maithili
बेनागा एक न एक
बेनागा एक न एक
*Author प्रणय प्रभात*
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
Mahadav, mera WhatsApp number save kar lijiye,
Mahadav, mera WhatsApp number save kar lijiye,
Ankita Patel
काला दिन
काला दिन
Shyam Sundar Subramanian
मेरे जीवन का बस एक ही मूल मंत्र रहा है जो प्राप्त है वही पर्याप्त है। उससे अधिक
मेरे जीवन का बस एक ही मूल मंत्र रहा है जो प्राप्त है वही पर्याप्त है। उससे अधिक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
Ranjana Verma
'तड़प'
'तड़प'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दिन भर रोशनी बिखेरता है सूरज
दिन भर रोशनी बिखेरता है सूरज
कवि दीपक बवेजा
रंग वासंती पीले (कुंडलिया )
रंग वासंती पीले (कुंडलिया )
Ravi Prakash
“सबसे प्यारी मेरी कविता”
“सबसे प्यारी मेरी कविता”
DrLakshman Jha Parimal
तनख्वाह मिले जितनी,
तनख्वाह मिले जितनी,
Satish Srijan
तू इश्क, तू खूदा
तू इश्क, तू खूदा
लक्ष्मी सिंह
मै ठंठन गोपाल
मै ठंठन गोपाल
Vijay kannauje
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
Smriti Singh
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...