Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

2229.

2229.
💥लोग दुनिया नहीं जानते💥
212 212 212
लोग दुनिया नहीं जानते ।
प्यार दरिया नहीं जानते ।।
जिंदगी और है मौत क्या।
जीत बढिया नहीं जानते ।।
थाम दामन चले यूं मियाँ ।
आज साथिया नहीं जानते ।।
चमन की बात करते कहाँ ।
फूल कलियाँ नहीं जानते ।।
बोलते शान खेदू यहाँ ।
बंद घड़ियाँ नहीं जानते ।।
…………..✍प्रो .खेदू भारती”सत्येश”
4-3-2023शनिवार

449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
👍👍
👍👍
*प्रणय प्रभात*
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
देख कर उनको
देख कर उनको
हिमांशु Kulshrestha
मै नर्मदा हूं
मै नर्मदा हूं
Kumud Srivastava
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
कविता
कविता
Alka Gupta
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
"मन और मनोबल"
Dr. Kishan tandon kranti
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
नैतिकता का इतना
नैतिकता का इतना
Dr fauzia Naseem shad
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3217.*पूर्णिका*
3217.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...