Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

(21) “ऐ सहरा के कैक्टस ! *

ऐ सहरा के कैक्टस !
कैसे हो सकते हो तुम “अमीत” ?
मैं भी तो हूँ इस सहरा में तुम्हारे साथ |
न तुम तनहा हो , न मैं अमित्र |
जो काँटा चुभाया है ,तुमने
क्या नहीं था वह
मित्रता के बढे हाथ का प्रतीक ?

तुम्हारी प्यास अधूरी है !
किन्तु इस अपार रेत-राशि के नीचे दबे जल- बिंदु
तुम्हारे जीवन को बनाए रखने के लिए ,
धरती के सबसे सुन्दर पुष्प तुममे खिलाने के लिए
दे रहे हैं तुम्हें सतत अपना जीवन-दान
क्या इस स्नेह से अधिक भी है कुछ वांछनीय ?

देखो तो मेरी ओर
जिसके प्यासे तड़पते होठों को
नहीं मिल सका जल का एक बिंदु
हर क्षण बढती यह प्यास
ले जायेगी जीवन के उस पार
नहीं जानता- क्या वहां भी होगी बस
प्यास ही प्यास
किन्तु बुझती आँखों में उस क्षण
रहेगा कृतज्ञता-भाव का एक जल बिंदु !
कृतज्ञता इस कांटे के रूप में
बढे हुए तुम्हारे
मैत्री के हाथ के प्रति ।

खारा ही सही , वह जल बिंदु ,
किन्तु आशा है बढ़ा देगा
तुम्हारे जीवन की डोर को
कम से कम एक क्षण और |
ऐ इस सहरा के मेरे मीत
सार्थक हो जायेगी हमारी प्रीत ।”

स्वरचित एवं मौलिक
रचयिता : (सत्य ) किशोर निगम

* कैक्टस =नागफनी

Language: Hindi
231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
"योगी-योगी"
*Author प्रणय प्रभात*
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
सुविचार
सुविचार
Sanjeev Kumar mishra
...........
...........
शेखर सिंह
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
"सच्चाई की ओर"
Dr. Kishan tandon kranti
*करो अब चाँद तारे फूल, खुशबू प्यार की बातें (मुक्तक)*
*करो अब चाँद तारे फूल, खुशबू प्यार की बातें (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Meri najar se khud ko
Meri najar se khud ko
Sakshi Tripathi
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
राग द्वेश से दूर हों तन - मन रहे विशुद्ध।
राग द्वेश से दूर हों तन - मन रहे विशुद्ध।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
3154.*पूर्णिका*
3154.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुलंद हौंसले
बुलंद हौंसले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल सी तुम हो
फूल सी तुम हो
Bodhisatva kastooriya
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...