Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

1B_ वक्त की ही बात है

1B_ वक्त की ही बात है

पैर रख कर गुजरने वाला
कहाँ सोच पाता है कि ,
उसने तिनके को रोंदा या
पीपल के बीज को …?

और वो पीपल भी
अपनी क्षमता के चरम पर
छांव देते समय
कहाँ सोचता होगा कि ,
किसने उसे रोंदा या
किसने उसे सींचा …

बात के लिए वक्त हो या नहीं
पर ‘वक्त की ही बात है’ ….

– क्षमा ऊर्मिला

Language: Hindi
Tag: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kshma Urmila
View all
You may also like:
*आ गई है  खबर  बिछड़े यार की*
*आ गई है खबर बिछड़े यार की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
Home Sweet Home!
Home Sweet Home!
R. H. SRIDEVI
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
देख तुझको यूँ निगाहों का चुराना मेरा - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
देख कर
देख कर
Santosh Shrivastava
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Converse with the powers
Converse with the powers
Dhriti Mishra
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
फ़ना से मिल गये वीरानियों से मिल गये हैं
फ़ना से मिल गये वीरानियों से मिल गये हैं
Rituraj shivem verma
लें दे कर इंतज़ार रह गया
लें दे कर इंतज़ार रह गया
Manoj Mahato
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
Rj Anand Prajapati
फिलहाल अंधभक्त धीरे धीरे अपनी संस्कृति ख़ो रहे है
फिलहाल अंधभक्त धीरे धीरे अपनी संस्कृति ख़ो रहे है
शेखर सिंह
ज़िंदगी में इक हादसा भी ज़रूरी है,
ज़िंदगी में इक हादसा भी ज़रूरी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"टेंशन को टा-टा"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
Loading...