Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

16- उठो हिन्द के वीर जवानों

मुझको गीत नहीं भातें हैं,
गोरे गोरे गालों के
न मृगी नैनी सी आँखों के,
स्याह न उड़ते बालों के
मैंने अपने गीत चुने हैं,
भारत माँ के वीरों से
गाड़ तिरंगा चोटी पर बलि-
दान हुये रणधीरों से

उठो हिन्द के वीर जवानों,
अब तुम निद्रा त्याग करो।
वैरी सीमा लाँघ रहा है,
रण में तुम प्रतिभाग करो।।
भारत माँ की बलिवेदी भी,
आज बहुत चीत्कार रही।
आओ मेरे वीर सपूतों,
कहकर आज पुकार रही।।

आज यहाँ की धन्य धरा भी,
शत्रु खून की प्यासी है।
कर दो छलनी उनको वीरों,
छाई बहुत उदासी है।।
हरा सके जो तुमको ऐसा,
है धरती पर वीर कहाँ।
बुला रही है भारत माता,
धरती का है स्वर्ग जहाँ।।

प्राण हलक से खींचो उनकी,
घुस आए जो रातों में।
वक़्त नहीं तुम आज गवाना,
मानवता की बातों में।।
जिसकी खातिर फाँसी झूले,
उन वीरों का ध्यान करो।
एक-एक को चुन-चुन मारो,
या खुद को क़ुर्बान करो।।

बड़े भाग्य से यह दिन आया,
अपना कर्ज चुकाओ तुम।
नज़र गड़ाए बैठा दुश्मन,
सैनिक फ़र्ज़ निभाओ तुम।।
रणभेरी का बिगुल बजा दो,
शत्रु शीश के मर्दन को।
सिर के संग न जाने पाये
काटो उनकी गर्दन को।।

निश्चिंत रहो भारतवासी
नज़रें लगी हमारी हैं।
आने दो दहशतगर्दों को,
हुई सभी तैयारी हैं।।
घुसकर भारत की सीमा में,
उसने फिर ललकारा है।
ताल ठोक कर हम कहते हैं
पूरा पाक हमारा है।।

अजय कुमार मौर्य ‘विमल’

Language: Hindi
122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
*Author प्रणय प्रभात*
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
Aniruddh Pandey
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बावला
बावला
Ajay Mishra
इक अजीब सी उलझन है सीने में
इक अजीब सी उलझन है सीने में
करन ''केसरा''
2763. *पूर्णिका*
2763. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
भारत है वो फूल (कविता)
भारत है वो फूल (कविता)
Baal Kavi Aditya Kumar
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
बुद्ध मैत्री है, ज्ञान के खोजी है।
Buddha Prakash
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
यादों की तुरपाई कर दें
यादों की तुरपाई कर दें
Shweta Soni
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
Loading...