Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

11. *सत्य की खोज*

सत्य केवल ईश्वर है,
बाकी सब तो नश्वर है।
ईश्वर अनादि, अनन्त है।
ईश्वर ही सर्वत्र हैं।
सब देते जिन्दगी में धोखा,
बस ईश्वर ही सर्वस्व है।
वायु की तरह ईश्वर का …
जर्रे- जर्रे में अस्तित्व है।
विद्युत – प्रवाह जैसा
ईश्वर अदृश्य सत्य है।
जिसे ईश्वर का सानिध्य मिला,
वो ही विरक्त है।
सत्य है आत्मा,
शरीर क्षण भंगुर है।
ईश्वर ही सत्य है,
कहां-कहां करे…
सत्य की खोज ‘मधु’,
सत्य मौन है,
सत्य शाश्वत है।
ईश्वर की ही तरह…
सत्य भी सर्वत्र है।

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Shweta sood
View all
You may also like:
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
"बारिश की बूंदें" (Raindrops)
Sidhartha Mishra
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आत्मनिर्भर नारी
आत्मनिर्भर नारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
gurudeenverma198
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
2486.पूर्णिका
2486.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
"मौन"
Dr. Kishan tandon kranti
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
परछाई (कविता)
परछाई (कविता)
Indu Singh
किताब
किताब
Sûrëkhâ
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"काली सोच, काले कृत्य,
*प्रणय प्रभात*
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
बस एक कदम दूर थे
बस एक कदम दूर थे
'अशांत' शेखर
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Loading...