महाकवि विद्यापति

रहल मैथिल क कवि
महाकवि विद्यापति*
कोटिशः कोटिशः नमन तोहे
अर्पित श्रद्धा सुमन तोहे

भावभक्ति युक्त वैष्णवी
प्रीति-रीति क गीत रची
कोटिशः कोटिशः नमन तोहे
अर्पित श्रद्धा सुमन तोहे

रहल कुशल संगीतज्ञ
भाव भूमि क विशेषज्ञ
कोटिशः कोटिशः नमन तोहे
अर्पित श्रद्धा सुमन तोहे

मिथिलांचल मे अद्भुत बसा
‘पदावली’ आऔर ‘कीर्तिलता’
कोटिशः कोटिशः नमन तोहे
अर्पित श्रद्धा सुमन तोहे
•••

_____________________
*विद्यापति जिनका जीवनकाल 1352 ई. से 1448 ई. तक रहा। मैथिली व संस्कृत के कवि व संगीतकार ही नहीं। अपितु दरबारी और राज पुरोहित भी रहे। आप परम् शिवभक्त थे, लेकिन आपने प्रेम गीत और भक्ति वैष्णव गीत भी रचे। आपको विशेष रूप से ‘मैथिल कवि कोकिल’ अर्थात मैथिली के कवि कोयल की उपमा से अलंकृत किया गया है। विद्यापति का प्रभाव केवल मैथिली और संस्कृत साहित्य तक ही सीमित नहीं था, बल्कि अन्य पूर्वी भारतीय साहित्यिक परम्पराओं तक भी था। जिसका निर्वाहन आने वाले कवियों ने भी किया है।

2 Likes · 2 Comments · 339 Views
You may also like:
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
"शौर्य"
Lohit Tamta
किसान
Shriyansh Gupta
ईद
Khushboo Khatoon
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
हे गुरू।
Anamika Singh
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
बदलती परम्परा
Anamika Singh
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...