Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author

हमनी के बचपन

हमनी के बचपन के सुनऽ कहानी,
जवना के नइखे अब कवनो निशानी।
मिले ना पिज़्ज़ा, ना बर्गर भा डोसा,
डोसा के छोड़ऽ मिले ना समोसा।
हाथे प आवे ना कहियो अट्ठन्नी,
दस बीस पइसा भा मिले चउअन्नी।
दसे गो लेमचुस में बीस लोग खाव,
मामा के दाँते से सगरी फोराव।
लेमचुस आ भूजा के रहे जमाना,
लन्चे में बाबू हो मिले ना खाना।
सूती के बोरा, शीशो के पटरी,
जाईंजा पढ़े त मारिंजा मछरी।
नरकट के कलम, खढ़िया के दुधिया,
बस्ता में चूवे त चले ना बुधिया।
सलाखे के पटरी राखल जा डोरा,
चेपी आ गोली से भरि जाव झोरा।
गेल्हीं जाँ पटरी करिखा रगरि के,
मुँह होखे करिया बाबू झगरि के।
नहरी में होखे तब खूबे नहान,
उ मस्ती के लौटी ना कबो जहान।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- २२/०१/२०२०

5 Likes · 8 Comments · 358 Views
You may also like:
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
भारत
Vijaykumar Gundal
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
मेरी छवि
Anamika Singh
नया चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️✍️रंग✍️✍️
"अशांत" शेखर
डूबती कश्ती को साहिल दे।
Taj Mohammad
पानी का दर्द
Anamika Singh
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
सुरज से सीखों
Anamika Singh
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कशमकश
Anamika Singh
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️वास्तविकता✍️
"अशांत" शेखर
ज़ब्त क्यों मेरा आज़माते हो
Dr fauzia Naseem shad
यह इश्क है।
Taj Mohammad
✍️लापता हूं खुद से✍️
"अशांत" शेखर
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
तरबूज का हाल
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आजादी का जश्न
DESH RAJ
Loading...