Dec 12, 2021 · 1 min read

” सम्बोधन ,शालीनता आ शिष्टता क इंजेकशन “

डॉ लक्ष्मण झा “”परिमल “”
===========================
हमरा विचित्र रोग सनिहा गेल अछि ! कियो हमर लेख ,कविता ,व्यंग आ ख्खिसा पिहानी क समालोचना ,टिप्पणी ,प्रशंसा आ आभार व्यक्त करताह हुनका थैंक यू आ धन्यवाद कहि देबनि ! बहुत गोटे किया न श्रेष्ठ रहथि ,समतुल्य आ कनिष्ठ रहथि ,वो हमर जन्म दिनक अवसर पर किया न अप्पन अभिव्यंजना प्रशस्ति स्वरूप व्यक्त केने रहथि ! पहिने त हम प्रतिकात्मक आभार प्रकट करबाक प्रयत्न करबनि नहि आ यदि करबो करब त “”थैंक यू “” कहि देबनि ! कियो- कियो एहि रोगक इलाज मे लागल छथि ! ” सम्बोधन ,शालीनता आ शिष्टता “क वेकसीन क आविष्कार त भ गेल अछि ! कियो कहैत छथि प्रतिउत्तर लिखबा सं पहिने “”सम्बोधन “” करि , लिखबा मे “” शालीनता”” क समावेश हेबाक चाहि आ “” शिष्टता “” प्रणाम ,अभिनंदन ,सस्नेह ,दुलार ,बधाई ,शुभकामना इत्यादि सं समाप्त हेबाक चाहि ! …..ओ बाबू …….एहन उपचार हमरा पुते नहि हैत ! जाय दिऔनि हुनका ,,,,,राखि दिय हमरा कोरेण्टिन मे …….बना लेथु सोशल डिसटेन्सिन ……मुदा हम इ इंजेकशन नहि लेब …नहि लेब ……नहि लेब !!
==================================

डॉ लक्ष्मण झा “”परिमल “”
साउंड हैल्थ क्लीनिक
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका

76 Views
You may also like:
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
Little baby !
Buddha Prakash
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
गुरु तुम क्या हो यार !
The jaswant Lakhara
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
बंदर भैया
Buddha Prakash
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H.
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
Loading...