Oct 3, 2021 · 1 min read

” सकारात्मक समालोचना “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
===============
हम सब एहि रंगमंचक कलाकार भेलहुँ ,……मुदा प्रतिबंधरहित कलाकार ! किनको नायक नहि बनाओल गेल छनि..किनको नायिका क रूप सं सजाओल नहि गेल छनि..कियो सहायक नहि छथि ..नहि निर्देशक ..नहि संचालक आ नहि विदूषक ! हमरालोकनि स्वतंत्र छी !
अप्पन -अप्पन स्क्रिप्ट अपने लिखलहूँ ..पात्रक चयन अपने केलहुं ..आ अप्पन अभिनय कें लोकक समक्ष रखलहूँ ! कियो साहित्य चर्चा पर लागल छथि ..कियो गोटे दार्शनिक गप्प क प्रदर्शन करताह ..किनको संगीत सं प्रेम छैनि ..चिकित्सक चिकित्साक लेख लिखताह इत्यादि -इत्यादि !
किछु एहि रंगमंच मे श्रेष्ठ छथि..कियो समतुल्य हेताह आ नवयुवकबृंदक अपार जनसमूह त पहिने सं एहिमे अग्रसर छथि ! आब हमरालोकनिक इच्क्षा इएह रहित अछि जे सब गोटे हमर अभिनय कें देखैत आ तकर सकारात्मक समालोचना आ प्रशंसा करैथ ! कखनो -कखनो दिशानिर्देशकक सेहो आवश्यक अछि !मुदा समालोचना मे मधुरता आ अपनत्व हेबाक चाहि !
एहि छोट सन यन्त्र मे असंख्य मित्रक समावेश अछि ! हम पुर्णतः हुनकर सानिध्य मे व्यक्तिगत रूपेण नहि रहि सकलहूँ ! हुनकर भाव -भंगिमा क दर्शन नहि भ सकल ! हुनकर संक्षिप्त टिप्पणी आ समालोचना क भावार्थ संभवतः नहियो बुझि सकैत छी ..कखनो – कखनो हुनक समालोचना मर्मभेदी बाण बनि जाइत छैक ! ..
आब निर्णय केलहुं जे “डिजिटल मित्र” कें विस्तारपूर्वक समालोचना आ टिप्पणी करक चाहि आ जनिका हम व्यक्तिगत रूपेण जनित छियनि ,…हुनका कोनो भ्रान्ति नहि भ सकैत छनि !
..आ नहि त सब सं उत्तम फेसबुकक परमाणु शस्त्र …”लाइक”…”लव” ..”हाहा” …”सैड”…”एंग्री” क प्रयोग सं कहियो पराजय क मुंह नहि देखय पडत ! आ एहिना मित्रता सदा अक्षुण बनल रहत !
===========================
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड

175 Views
You may also like:
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
मैं
Saraswati Bajpai
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
Born again with love...
Abhineet Mittal
अख़बार
आकाश महेशपुरी
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
ये चिड़िया
Anamika Singh
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...