#23 Trending Author
Oct 10, 2021 · 1 min read

लिखैत रही

लिखैत रही।

मोन होइए जे एक मिसिया कऽ पिबैत रही
मुदा कहियो कऽ किछू-किछू लिखैत रही
कनेक हमरो गप पर धियान देबैए
मोन होइए जे पाठक सभ सॅं भेंट करैत रही।

ग़ालिब सेहो एक मिसिया कऽ पिबैत छलाह
मुदा किछू-किछू तऽ लिखैत छलाह
अपना लेल नहि पाठक लोकनिक लेल
मुदा बड्ड निक लिखैत छलाह।

पद्य लिखनाई तऽ आब हम सीख रहल छी
हमरा तऽ नहि लिखबाक ढंग अछि
मुदा किछू निक पद्य लिखि नेनापन सॅं
एतबाक तऽ हमर सख अछि।

कि लिखू किछो ने फुरा रहल अिछ
बढलैऍ मँहगाई तऽ अधपेटे भूखले रहैत छी
किऍक ने रही जाऍ भूखल पेट मुदा
किछो लिखबाक लेल मोन सुगबुगा रहल अछी।

पोथि लिखलनि महाकवि विद्यापति
लिखलनि पोथि बाबा नागार्जुन
किछू नव रचना जे नहि लिखब
तऽ कोना भेटत मैथिली साहित्यक सद्गुण।

लेखक समाजक सजग प्रहरी होइत छथि
अपना लेल तऽ नहि अनका लेल लिखैत छथि
कतेक लोक हुनका आर्थिक अवस्था पर हॅसैत अछि
मुदा तइयो ओ चुपेचाप लिखैत रहैत छथि।

कहू एहेन उराउल हॅसी पर कोनो लेखक
एक मिसिया कऽ पिबत कि नहि
अपन दुःखित भेल मोन के
कखनो के अपनेमने हॅंसाउत कि नहि

कतेक लोक गरियअबैत अछि
एक मिसिया पीब कऽ लिखब ई किएक सीखू
मुदा आई किशन’ मोनक गप कहि रहल अछि
पिबू आ कि नहि पीबू मुदा किछूएक तऽ लिखब सीखू।

आई हमरो मोन भए रहल अछि
जे एक मिसिया कऽ पिबैत रही
अपना लेल नहि तऽ पाठक लोकनिक लेल
मुदा किछू नव रचना लिखैत रही।

कवि- किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)

1 Like · 165 Views
You may also like:
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
बेटी का संदेश
Anamika Singh
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
सौगंध
Shriyansh Gupta
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
आदर्श पिता
Sahil
पिता
Aruna Dogra Sharma
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बद्दुआ।
Taj Mohammad
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
कारस्तानी
Alok Saxena
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H.
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H.
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अप्सरा
Nafa writer
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
Loading...