Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

— रैन बसेरा —

सब कहते मेरा घर बन गया
देखो कितना सुंदर बन गया
लगा दिया संगेमरमर उस पर
हर तरह से इस को सजा दिया !!

नही छोडी कोई कसर उस में
सारे जतन से उस को भर दिया
मंजिल दर मंजिल खड़ी कर दी
तूफानों ने भी अब किनारा किया !!

सच तो यह है बन्दे सुन मुझ से
न यह तेरा , न यह घर मेरा
ये तो बस है चन्द दिन का रैन बसेरा
किस बात है अब घमंड किया !!

पैसा पैसा जोड़ के इस को
रात दिन एक एक किया
कह गए संत महात्मा हम को
भरा थैला भी साथ न दिया !!

यह जग है दो रोज का मेला
कितना भी सज धज कर ले
गयी साँस जो जिस्म से तो
चल फिर राह अकेला रे !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

1 Like · 198 Views
You may also like:
जीवन
Mahendra Narayan
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अर्थ व्यवस्था मनि मेनेजमेन्ट
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
घर की रानी
Kanchan Khanna
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
💐💐सत्संगस्य महत्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
मेरी नेकियां।
Taj Mohammad
✍️✍️रंग✍️✍️
"अशांत" शेखर
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
स्कूल बन गया हूं।
Taj Mohammad
ज़िंदगी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रतीक्षा के द्वार पर
Saraswati Bajpai
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ बारिशें बंजर लेकर आती हैं।
Manisha Manjari
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
लिपट कर तिरंगे में आऊं
AADYA PRODUCTION
Loading...