Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

मुस्कुरा के चलीं

जब चलीं माथ आपन उठा के चलीं
बाटे संकट भले मुस्कुरा के चलीं

साँच के साथ दीहल जरूरी हवे
झूठ के दौर बा मत चुपा के चलीं

हो सकेला सभे साथ ना दे भले
जे मिले सबके आपन बना के चलीं

का पता राह में के मिले कब कहाँ
जब चलीं रूप आपन सजा के चलीं

गर उदासी रही तऽ हँसी ई जहाँ
दर्द दिल के हमेशा छुपा के चलीं

ना कइल बतकही लोग छोड़ी कबो
बात कवनो न दिल से लगा के चलीं

काँट ‘आकाश’ हर ओर बाटे भले
खुद बढ़ीं सबके हिम्मत बढ़ा के चलीं

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- १८/०८/२०२१

7 Likes · 5 Comments · 810 Views
You may also like:
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
हम सब एक है।
Anamika Singh
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr. Kishan Karigar
संत की महिमा
Buddha Prakash
पिता
Aruna Dogra Sharma
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
Loading...