Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

घनी सुखवीर ई किस्मत बा जरूरी।।

घनी सुग्घर ई किस्मत बा जरूरी।
समझ लीं ई हकीकत बा जरूरी।

कइल गर बन्दगी जिनिगी में चाहीं,
वेदवन के तिलावत बा जरूरी।

दिखावा से न कवनो काम होई,
जिनिगिया में ई मेहनत बा जरूरी।

सफलता म़े हौसला के सङ्गे जी,
बुजुर्गन के नसीहत बा जरूरी।

अना पऽ आँच जब आवे लगे तऽ,
हिफ़ाज़त म़े बगावत बा जरूरी।

मिटा दीं गर दिखे नापाक हसरत,
अमन के पाक हसरत बा जरूरी।

चले जिनिगी सचिन ई शान से जे,
सुनी शालीन आदत बा जरूरी।

✍️ पं.संजीव शुक्ल ‘सचिन’

1 Like · 150 Views
You may also like:
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
धन्य है पिता
Anil Kumar
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
तीन किताबें
Buddha Prakash
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
पिता
Dr.Priya Soni Khare
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ की याद
Meenakshi Nagar
पंचशील गीत
Buddha Prakash
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
Loading...