Nov 1, 2021 · 1 min read

गीतकार

हम गीत लिखेनी हुज़ूर
गाली नाहीं!
बस प्यार चाहेनी राउर
ताली नाहीं!!
जेब से चाहे जेतना हम
बानी फकीर
दिमाग से तनको बाकिर
खाली नाहीं!!
✍Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#जनवादीगीतकार
#अवामीशायर

1 Like · 120 Views
You may also like:
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
पापा
Nitu Sah
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
बदलती परम्परा
Anamika Singh
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...