Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

My Lord

When I’m alone,
He is beside me.

When I’m depressed,
He consoles me.

When I need something,
He arranges for me.

When I’m helpless,
He supports me.

People often ask ~
Who’s He,
And where’s He.. ?

I just give a smile,
And reply ~
He’s my Lord,
And He’s inside me.

Written by Kanchan Khanna,
Self-written (copy-right, writer).
Dated – 23/07/2006.

Language: English
Tag: Poem
2 Likes · 454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
धूमिल होती पत्रकारिता
धूमिल होती पत्रकारिता
अरशद रसूल बदायूंनी
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दर्द अपना
दर्द अपना
Dr fauzia Naseem shad
लड़कों का सम्मान
लड़कों का सम्मान
पूर्वार्थ
देखो भालू आया
देखो भालू आया
अनिल "आदर्श"
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
■ हर दौर में एक ही हश्र।
■ हर दौर में एक ही हश्र।
*Author प्रणय प्रभात*
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* का बा v /s बा बा *
* का बा v /s बा बा *
Mukta Rashmi
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी
जिंदगी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...