Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

Chehre se sundar nhi per,

Chehre se sundar nhi per,
Dil ke saaf hai
Sayad yahi wajah hai ki,
Bhut kum logon ke khaas
Hai…!!

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
औकात
औकात
साहित्य गौरव
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
#गद्य_छाप_पद्य
#गद्य_छाप_पद्य
*Author प्रणय प्रभात*
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
'अशांत' शेखर
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
यह आखिरी खत है हमारा
यह आखिरी खत है हमारा
gurudeenverma198
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
धर्मगुरु और राजनेता
धर्मगुरु और राजनेता
Shekhar Chandra Mitra
ख़ुश-फ़हमी
ख़ुश-फ़हमी
Fuzail Sardhanvi
लोकतंत्र
लोकतंत्र
Sandeep Pande
ढूंढता हूँ उसे मैं मगर मिल नहीं पाता हूँ
ढूंढता हूँ उसे मैं मगर मिल नहीं पाता हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Nav Lekhika
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
मांँ की सीरत
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-514💐
💐प्रेम कौतुक-514💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
Santosh Soni
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
Anil Mishra Prahari
भोली बाला
भोली बाला
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सी डी इस विपिन रावत
सी डी इस विपिन रावत
Satish Srijan
इंसान की सूरत में
इंसान की सूरत में
Dr fauzia Naseem shad
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
gpoddarmkg
खग  (कुंडलिया)*
खग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
ruby kumari
Loading...