Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 28, 2016 · 1 min read

गजल

मैं एक ढ़लती हुई शाम उसके नाम लिख रहा हूँ।
एक प्यार भरे दिल का कत्लेआम लिख रहा हूँ।

ता उम्र मैं करता रहा जिस शाम उसका चर्चा,
मैं आज उसी शाम को नाकाम लिख रहा हूँ ।

सोचा था न जाऊँगा जहाँ उम्र भर कभी भी,
उस मैकदे में अब तो हर शाम दिख रहा हूँ ।

हाँसिल न हुआ जिसमें बस गम के शिवा कुछ भी,
मैं उस दीवानेपन का अंजाम लिख रहा हूँ ।

थी हीरे सी चमक मुझमें प्यार के उजाले में,
नफरत के अंधेरों में पथ्थर सा दिख रहा हूँ ।

दुनिया की निगाहों से जिसे था छुपाया करता,
उस बेवफा का नाम सरेआम लिख रहा हू।
——मुकेश पाण्डेय

1 Like · 205 Views
You may also like:
गीत
शेख़ जाफ़र खान
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
झूला सजा दो
Buddha Prakash
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
बेरूखी
Anamika Singh
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
पिता
Mamta Rani
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
Loading...