के बतावऽ खास बा

गजल
मापनी-२१२२ २१२२ २१२२ २१२

के इहाँ आपन पराया के बतावऽ खास बा।
मतलबी दुनिया हवे जी ना केहू से आस बा।

जे रहेला दूर उनसे प्यार भी गहिरा रहे,
बेकदर होखत हवे जी आज जे भी पास बा।

हार ना मानब पराजय पर पराजय हो भले,
एक दिन होखब सफल हमरा इहे विश्वास बा।

मन गुलामी में रमल कुछ लोग के बा ए कदर,
सांस तऽ चलते रहे, लेकिन बुझाला लास बा।

विश्व में हो शांति सुख, छल दंभ ना लउके कतो
सूर्य के तहरा से प्रभु जी, बस इहे अरदास बा।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

196 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
Waqt
ananya rai parashar
मां-बाप
Taj Mohammad
माँ
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
kamal purohit
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
पानी का दर्द
Anamika Singh
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
फूल
Alok Saxena
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
The Magical Darkness
Manisha Manjari
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...