Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कच कच कच कच बोले सन

कच कच कच कच बोले सन
॰॰॰
अचरज बा कि तहिए मनई चार गोड़ के हो जाला
शादी क के जहिए से घर के झंझट मेँ खो जाला
दू गो लइका हो जेकरा उ आठ गोड़ से चलेला
जाल बढ़े मकरा जइसन त शादी कइल खलेला
बड़ा काम कइसे होई जब छोटी छोटी मुश्किल बा
समय चलत महँगाई के अब रोजी-रोटी मुश्किल बा
अइसे मेँ जब लइका सुन लीँ पाँच-पाँच गो होले सन
पेट भरे ना भाई हो तब कच कच कच कच बोले सन
जहिया कवनो कारन से ना तेल परे तरकारी मेँ
राज गरीबी के सगरी उ खोले सन पटिदारी मेँ
सगरी जिनिगी बितेला तब भाई मारा-मारी मेँ
जगहि मिले ना घरवा मेँ त सूतेक परे घारी मेँ
देखते बानी रोग बहुत बा पइसा लगी बीमारी मेँ
मान्टेशरी में पढ़िहे सन ना पढ़िहे सन सरकारी मेँ
अनपढ़ रहिहें सन लइका फसिहें सन दुनियादारी में
खोजला में बस जिनिगी कटी दाल-भात-तरकारी मेँ
जाके कवनों करी मजूरी भाई हाट-बजारी मेँ
कवनो कही हम त बानी बाहर के तइयारी मेँ
शादी सगरिन के होई त घर रही ना रहे के
बटवारा होई त सुन लऽ खेत बची बस कहे के
बड़ा अगर परिवार रही त सबकुछ परी सहे के
लाठी ले के बुढ़ौती मेँ येने ओने ढहे के
छोटा बा परिवार अगर त चिन्ता चढ़े कपारे ना
शान रहे मनई के कहियो ये दुनिया से हारे ना

– आकाश महेशपुरी

2 Likes · 2 Comments · 252 Views
You may also like:
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
धन्य है पिता
Anil Kumar
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
पापा
सेजल गोस्वामी
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
Loading...