Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

🥀*अज्ञानी की कलम*🥀

🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
चौदह नवंबर को नेता सुभाष चन्द्र बोस दिवस मनाये।
जिन्होंने आजाद हिन्द फौज भारत को आजादी जनाये।।
अब न ऐसे वीर सपूत स्वतंत्र भारत के पद चिन्हों पे चलले।
कम से कम शाल में इक बार याद कर भाबी पीढ़ी को सम्झाये।।

जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
झाँसी उ•प्र•

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"विचार-धारा
*प्रणय प्रभात*
"मंजर"
Dr. Kishan tandon kranti
वक़्त की आँधियाँ
वक़्त की आँधियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
gurudeenverma198
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
3187.*पूर्णिका*
3187.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
Rashmi Ranjan
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
दोस्ती तेरी मेरी
दोस्ती तेरी मेरी
Surya Barman
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
धर्म के नाम पे लोग यहां
धर्म के नाम पे लोग यहां
Mahesh Tiwari 'Ayan'
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
कभी जब आपका दीदार होगा
कभी जब आपका दीदार होगा
सत्य कुमार प्रेमी
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
अनुसंधान
अनुसंधान
AJAY AMITABH SUMAN
तअलीम से ग़ाफ़िल
तअलीम से ग़ाफ़िल
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
Sanjay ' शून्य'
Loading...