Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

🙋बाबुल के आंगन की चिड़िया🙋

बाबुल के आंगन की चिड़िया, बिटिया ही तो होती है
बाबुल के आंगन की बिटिया, कभी नहीं यहाँ रोती है
बाबुल के आंगन……….
1) जब बेटी का जन्म हुआ, कोना – कोना महकाता है
उपवन का दामन चिड़ियों से, जी भर के चेंहचाता है
बेटी का क्रंदन सुनकर, धरती माता भी रोती है
बाबुल के आंगन…….
2) हाथ पकड़ नन्हे – नन्हे, कदमों से बिटिया चलती है
माँ आनंदित होती माँ की, ममता बहुत मचलती है
अपनी परी को ले गोदी माँ, सपने खूब संजोती है
बाबुल के आंगन………
3) रूप उसी नन्ही बेटी का, दुर्गा , काली होता है
फिर भी भ्रूण हत्या से घायल, बेटी जीव क्यों रोता है
माता क्यों स्वारथरत हो, अपनी ममता को खोती है
बाबुल के आंगन ……….
सीख:- बेटियाँ हमारे घरों की धरोहर एवं अनमोल रत्न हैं। बेटे की चाह में बेकसूर बेटियों को मत मारो। धन्यवाद।
लेखक:- खैमसिहं सैनी
M.A, M.Ed, B.Ed
Mob.No. 9266034599

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Likes · 2 Comments · 185 Views

Books from Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)

You may also like:
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
Dr Archana Gupta
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
💐अज्ञात के प्रति-91💐
💐अज्ञात के प्रति-91💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आदमी आदमी से डरने लगा है
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन आनंद
जीवन आनंद
Shyam Sundar Subramanian
वो नई नारी है
वो नई नारी है
Kavita Chouhan
कोरोना
कोरोना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तुम बूंद बंदू बरसना
तुम बूंद बंदू बरसना
Saraswati Bajpai
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
झूठलर
झूठलर
Shekhar Chandra Mitra
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
Buddha Prakash
एक पत्नि की पाती पति के नाम
एक पत्नि की पाती पति के नाम
Ram Krishan Rastogi
अंजाम ए जिंदगी
अंजाम ए जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
bharat gehlot
हार कर भी जो न हारे
हार कर भी जो न हारे
AMRESH KUMAR VERMA
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Writing Challenge- नृत्य (Dance)
Sahityapedia
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
एतबार उस पर इतना था
एतबार उस पर इतना था
Dr fauzia Naseem shad
"सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया भय मुक्त बनाना है
दुनिया भय मुक्त बनाना है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Aksar rishte wahi tikte hai
Aksar rishte wahi tikte hai
Sakshi Tripathi
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
غزل
غزل
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज नहीं तो निश्चय कल
आज नहीं तो निश्चय कल
Satish Srijan
■ नीतिगत सच...
■ नीतिगत सच...
*Author प्रणय प्रभात*
विकसित भारत का लक्ष्य India@2047 । अभिषेक श्रीवास्तव ‘शिवा’
विकसित भारत का लक्ष्य India@2047 । अभिषेक श्रीवास्तव ‘शिवा’
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
Loading...