Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

🙋बाबुल के आंगन की चिड़िया🙋

बाबुल के आंगन की चिड़िया, बिटिया ही तो होती है
बाबुल के आंगन की बिटिया, कभी नहीं यहाँ रोती है
बाबुल के आंगन……….
1) जब बेटी का जन्म हुआ, कोना – कोना महकाता है
उपवन का दामन चिड़ियों से, जी भर के चेंहचाता है
बेटी का क्रंदन सुनकर, धरती माता भी रोती है
बाबुल के आंगन…….
2) हाथ पकड़ नन्हे – नन्हे, कदमों से बिटिया चलती है
माँ आनंदित होती माँ की, ममता बहुत मचलती है
अपनी परी को ले गोदी माँ, सपने खूब संजोती है
बाबुल के आंगन………
3) रूप उसी नन्ही बेटी का, दुर्गा , काली होता है
फिर भी भ्रूण हत्या से घायल, बेटी जीव क्यों रोता है
माता क्यों स्वारथरत हो, अपनी ममता को खोती है
बाबुल के आंगन ……….
सीख:- बेटियाँ हमारे घरों की धरोहर एवं अनमोल रत्न हैं। बेटे की चाह में बेकसूर बेटियों को मत मारो। धन्यवाद।
लेखक:- खैमसिहं सैनी
M.A, M.Ed, B.Ed
Mob.No. 9266034599

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
💐प्रेम कौतुक-385💐
💐प्रेम कौतुक-385💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
"Har Raha mukmmal kaha Hoti Hai
कवि दीपक बवेजा
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
"ऐसा क्यों होता है?"
Dr. Kishan tandon kranti
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मिट्टी बस मिट्टी
मिट्टी बस मिट्टी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
हा मैं हारता नहीं, तो जीतता भी नहीं,
हा मैं हारता नहीं, तो जीतता भी नहीं,
Sandeep Mishra
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
नारी
नारी
Mamta Rani
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
बंद आंखें कर ये तेरा देखना।
सत्य कुमार प्रेमी
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
अभिनव अदम्य
"दस ढीठों ने ताक़त दे दी,
*Author प्रणय प्रभात*
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
जिनसे जिंदा हो,उनको कतल न करो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...