Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2024 · 1 min read

🙅सीधी बात🙅

🙅सीधी बात🙅
मुझे किसी की “सियासी आस्तिकता” से कोई आपत्ति नहीं। बशर्ते उसे मेरी “सियासी नास्तिकता” पर एतराज़ न हो।
■प्रणय प्रभात■

1 Like · 24 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
गीत
गीत
Shiva Awasthi
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
اور کیا چاہے
اور کیا چاہے
Dr fauzia Naseem shad
3188.*पूर्णिका*
3188.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
नेता हुए श्रीराम
नेता हुए श्रीराम
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
हवा चल रही
हवा चल रही
surenderpal vaidya
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
ओ गौरैया,बाल गीत
ओ गौरैया,बाल गीत
Mohan Pandey
"आवारा-मिजाजी"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
ख़ान इशरत परवेज़
*भरत राम के पद अनुरागी (चौपाइयॉं)*
*भरत राम के पद अनुरागी (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
जिसको चाहा है उम्र भर हमने..
Shweta Soni
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
हिमांशु Kulshrestha
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
ruby kumari
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नाना भांति के मंच सजे हैं,
नाना भांति के मंच सजे हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
Loading...