Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

🙅एक न एक दिन🙅

🙅एक न एक दिन🙅

“तुम भी बकरे की मां जैसे, कब तक ख़ैर मनाओगे?
पॉपकॉर्न से फुदकोगे, जब गर्म तवे पर आओगे।।”

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अतीत
अतीत
Neeraj Agarwal
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
Manoj Mahato
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
पूर्वार्थ
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी हवाई जहाज
जिंदगी हवाई जहाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
Naushaba Suriya
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
❤️
❤️
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बड़े हुए सब चल दिये,
बड़े हुए सब चल दिये,
sushil sarna
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
"मगर"
Dr. Kishan tandon kranti
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
*मिलती है नवनिधि कभी, मिलती रोटी-दाल (कुंडलिया)*
*मिलती है नवनिधि कभी, मिलती रोटी-दाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये ज़िंदगी
ये ज़िंदगी
Shyam Sundar Subramanian
मै नर्मदा हूं
मै नर्मदा हूं
Kumud Srivastava
"पूनम का चांद"
Ekta chitrangini
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
Loading...