Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

🙅अजब-ग़ज़ब🙅

🙅अजब-ग़ज़ब🙅

सियासत का कीड़ा
उनकी जीत के लिए
काम करने पर बाध्य करता है,
जिन्होंने घेर कर हरवाया।

■प्रणय प्रभात■

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
शोख लड़की
शोख लड़की
Ghanshyam Poddar
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
कोई काम हो तो बताना
कोई काम हो तो बताना
Shekhar Chandra Mitra
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2413.पूर्णिका
2413.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
Vishal babu (vishu)
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
manjula chauhan
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
मुस्कराओ तो फूलों की तरह
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
👉 ताज़ा ग़ज़ल :--
👉 ताज़ा ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"When the storms of life come crashing down, we cannot contr
Manisha Manjari
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
"चुम्बकीय शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...