Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

😢शर्मनाक😢

😢शर्मनाक😢

एक तरफ
राम-भक्ति के दावे,
दूसरी तरफ
रावणी प्रवृत्ति को संरक्षण!
क्यों…? बताए सरकार।।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#आज_का_शेर-
#आज_का_शेर-
*प्रणय प्रभात*
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पवित्र मन
पवित्र मन
RAKESH RAKESH
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
*वही एक सब पर मोबाइल, सबको समय बताता है (हिंदी गजल)*
*वही एक सब पर मोबाइल, सबको समय बताता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
SURYA PRAKASH SHARMA
झूठे सपने
झूठे सपने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
परिवार
परिवार
डॉ० रोहित कौशिक
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
गिफ्ट में क्या दू सोचा उनको,
Yogendra Chaturwedi
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
लेखक होने का आदर्श यही होगा कि
लेखक होने का आदर्श यही होगा कि
Sonam Puneet Dubey
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
ग्रीष्म ऋतु --
ग्रीष्म ऋतु --
Seema Garg
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
Loading...