Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟

हाथ बांधे कब तलक बोलो रहोगे चुप यहां,
आज घर उसका जला कल अपने घर होगा धुआं,

तोड़ डालो चुप्पियां अब होंठों के पट खोल दो,
घर से निकलो और जाकर दिल्ली हल्ला बोल दो,

हार क्या है जीत क्या छोड़ो तुम खेलों जुआ,
आज घर उसका जला कल अपने घर होगा धुआं,

नेता शासन छोड़कर करने लगे मनमानियां,
अपने वादे तोड़कर करने लगे शैतानियाँ,

खोद डाला है सियासत ने जो भर डालो कुआं,
आज घर उसका जला कल अपने घर होगा धुआं,

बेटियां महफूज न अब रोएं माथा फोड़कर,
मार डालो कोख में माँ क्या करोगे छोड़कर,

अब वतन में बेटियां मरने लगी घुट घुट यहां,
आज घर उसका जला कल अपने घर होगा धुआं,

लिखना छोड़ो अब कलम से हाथ में हथियार लो,
तोड़ना है तख़्त तुमको हौंसला औजार लो,

अपने घर के दुश्मनों को ठोक दो बनकर जवां,
आज घर उसका जला कल अपने घर होगा धुआं,

देश होता जा रहा है खोखला जड़ से मेरा,
रोज सीमा के आतंकी हमलों से दिल है डरा,

खून में कर के उबाला सचिन बदलो आबो हवा,
आज घर उसका जला कल अपने घर होगा धुआं,

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
चलना हमारा काम है
चलना हमारा काम है
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कड़वा सच
कड़वा सच
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
शेखर सिंह
गरीब की आरजू
गरीब की आरजू
Neeraj Agarwal
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी में आपका वक्त आपका ये  भ्रम दूर करेगा  उसे आपको तकलीफ
जिंदगी में आपका वक्त आपका ये भ्रम दूर करेगा उसे आपको तकलीफ
पूर्वार्थ
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
■ आज का आख़िरी शेर-
■ आज का आख़िरी शेर-
*प्रणय प्रभात*
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU SHARMA
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...