Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

😊संशोधित कविता😊

😊संशोधित कविता😊

बाबा-बाबा “ब्लैक-चीप!”
हैव यू ऐनी “भूल??”
(बाबा चिड़ी-चुप्प)

★प्रणय प्रभात★

1 Like · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
रमणीय प्रेयसी
रमणीय प्रेयसी
Pratibha Pandey
"रेखा"
Dr. Kishan tandon kranti
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
पुष्पवाण साधे कभी, साधे कभी गुलेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
धोखा
धोखा
Sanjay ' शून्य'
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
"आंधी आए अंधड़ आए पर्वत कब डर सकते हैं?
*Author प्रणय प्रभात*
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
अब क्या करे?
अब क्या करे?
Madhuyanka Raj
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
नयनों मे प्रेम
नयनों मे प्रेम
Kavita Chouhan
Loading...