Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

💐💐तुम अपना ख़्याल रखना💐💐

##मणिकर्णिका##
##तैयारी शुरू कर लो##
##Bonie##
##कूड़ा है कूड़ा##

तुम अपना ख़्याल रखना,
तुम अपना ख़्याल रखना,
चुन लिए फूल जिन्दगी के,
तुम्हारा साथ रहा ही नहीं,
दूर क्यों हो?कुछ इज़हार तो करते,
कहेंगे कोई सवाल ही नहीं,
इश्क का असर बे-असर है मुझ पर,
तुम अपना ख़्याल रखना।।1।।
मेरी ही आहट है पीछे देखना,
जो देखा है उसे फिर देखना,
क्या कोई दाग़ नज़र आया?
मेरे दिल में अपनी तस्वीर ही देखना,
इन्तजार का भी एहसान है मुझ पर,
तुम अपना ख्याल रखना।।2।।
तक़दीर किसे सँवारती है बताना,
राहों के काँटों को तुम ही हटाना,
ठहरा हूँ अभी ठहरा रहूँगा,
चलो तुम अपनी झूठी खुशी ही जताना,
तुम्हारा कोई किस्सा न दिलशाद है मुझ पर,
तुम अपना ख़्याल रखना।।3।।
उनके मुस्कुराने की तस्वीरे बची है,
उसके आगे कोई दौलत न सजी है,
रातें बचीं हैं मेरे हिस्से में,
बस एक साँस भर की जान बची है,
‘उन्हें देखने भर का इल्ज़ाम है’मुझ पर
तुम अपना ख़्याल रखना।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये हक़ीक़त
ये हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
*आयु पूर्ण कर अपनी-अपनी, सब दुनिया से जाते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
*आ गई है  खबर  बिछड़े यार की*
*आ गई है खबर बिछड़े यार की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
*प्रणय प्रभात*
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
वापस
वापस
Harish Srivastava
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
"ज्वाला
भरत कुमार सोलंकी
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
नववर्ष का आगाज़
नववर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
The emotional me and my love
The emotional me and my love
Sukoon
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
असर हुआ इसरार का,
असर हुआ इसरार का,
sushil sarna
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
Loading...