Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2022 · 1 min read

💐💐उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने💐💐

##मणिकर्णिका##
##हे बौनी!नारियल की तरह फोडूँगा##
##अपना चिन्तन बदल लें बौनी##
##अभिषेक उन्ही का होता है,जिनके भाग्य में होता है##

उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने,
उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने,
रुसवा तुमने किया करते रहो,
सफ़र में हमसफ़र की तलाश में था,
कोई अन्दाज भी न था बहका सा,
हमें देखने का ही दिखावा करते रहो,
उनकी हर बात को अक्ल से सुना मैंने
उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने।।1।।
कोई श्रंगार की बातें न थीं मन में,
वो सादा थे कितने सादा थे,
कोई एतबार का सवाल नहीं था,
फिर यह ख़्याल क्यों?आया उनके मन में,
‘कितना तन्हा हूँ मैं’सोचा मैंने,
उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने।।2।।
मेरा दिल था जंगल नहीं था,
वो किस्से बनाते रहे कैसे कैसे,
किसी बुरे हश्र का ख़्याल था ग़र उन्हें,
सुलझाते उसे,दंगल नहीं था,
‘तुम मेरे इश्क़ के मज़मून हो’कहा था मैंने,
उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने।।3।।
न कोई सवाल है,न जबाब है,
कभी मिलेंगे उनसे बेताब हैं,
गुलज़ार जिन्दगी को नज़र लगा दी,
लगा दी इतनी कि न कोई हिसाब है,
‘जो कुछ बची है’उनके हवाले किया मैंने,
उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने।।4।।

रुसवा-निन्दा, अपमान दहलीज-देहरी
©®अभिषेक: पाराशरः

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 31 Views
You may also like:
कभी
कभी
Ranjana Verma
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
"शिवाजी महाराज के अंग्रेजो के प्रति विचार"
Pravesh Shinde
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐प्रेम कौतुक-198💐
💐प्रेम कौतुक-198💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Ye Sidhiyo ka safar kb khatam hoga
Ye Sidhiyo ka safar kb khatam hoga
Sakshi Tripathi
भूला प्यार
भूला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमारे जीवन में शिक्षा महत्व
हमारे जीवन में शिक्षा महत्व
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
■ फ़ासले...!
■ फ़ासले...!
*Author प्रणय प्रभात*
अवामी शायर
अवामी शायर
Shekhar Chandra Mitra
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दीयो के मन की संवेदना
दीयो के मन की संवेदना
Ram Krishan Rastogi
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा
मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा
Dr fauzia Naseem shad
जले स्नेह का दीप।
जले स्नेह का दीप।
लक्ष्मी सिंह
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
प्रेम एक अनुभव
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कैसा अलबेला इंसान हूँ मैं!
कैसा अलबेला इंसान हूँ मैं!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
बेपरवाह बचपन है।
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सन २०२३ की मंगल कामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अबकी जाड़ा कबले जाई "
Rajkumar Bhatt
प्यार-दिल की आवाज़
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
【21】 *!* क्या हम चंदन जैसे हैं ? *!*
【21】 *!* क्या हम चंदन जैसे हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
परिस्थिति का मैं मारा हूं, बेचारा मत समझ लेना।
परिस्थिति का मैं मारा हूं, बेचारा मत समझ लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
✍️कुछ रक़ीब थे...
✍️कुछ रक़ीब थे...
'अशांत' शेखर
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at...
Nupur Pathak
एक हमदर्द थी वो.........
एक हमदर्द थी वो.........
Aditya Prakash
Loading...