Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2022 · 1 min read

💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐

##वैधव्य##

मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की,
शुक्रिया कब कहें? क्यों कहें?किसी से,
जिन्दगी जी रहें हैं, अपनी ख़ुशी से,
सितम जो किये हैं एहसान जैसे,
कोई बात न बची अब कहने की,
मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की।।1।।
नूर ही न रहे तो रंग कैसा,
तुम ही न रहे तो जमाना कैसा,
मुक्कदर से साथ निभाने वाले,
बादल से कहते थे बरस जाने की,
मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की।।2।।
तुम्हें किस निगाह से देंखे अब,
दिल के अरमान मिट गए सब,
बस बचा हकीक़त का मंजर,
मरे पर भी चोट दी खंजर की,
मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की।।3।।
फ़कत उदासी ही बची है,
अर्थी ख़्यालों की सजी है,
सुनो नेक इरादों वालो,
जिन्दगी दी है एक दो पल की,
मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की।।4।।

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"गेंम-वर्ल्ड"
*प्रणय प्रभात*
खालीपन
खालीपन
MEENU SHARMA
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
बुली
बुली
Shashi Mahajan
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
नारी तेरा रूप निराला
नारी तेरा रूप निराला
Anil chobisa
"भूल गए हम"
Dr. Kishan tandon kranti
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मधुमाश
मधुमाश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
साथ अगर उनका होता
साथ अगर उनका होता
gurudeenverma198
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
श्री राम! मैं तुमको क्या कहूं...?
श्री राम! मैं तुमको क्या कहूं...?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
Loading...